Items filtered by date: Sunday, 14 January 2018

आवाज़(रेखा राव, दिल्ली): लम्बे समय से सियासी गलिआरों में चर्चित इसराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू के भारत दौरे का आज आगाज़ हो गया. नेतान्याहू अपने छह दिवसीय भारत दौरे पर आज नै दिल्ली पहुंचे. अपने ख़ास मित्र की अगुवाई के लिए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी प्रोटोकॉल को परे रखते हुए खुद हवाई अड्डे जाकर बेंजामिन नेतान्याहू की अगवानी की. उन्होंने नेतान्याहू के यहां पहुंचने पर उन्हें गले लगाकर उनका स्वागत किया। नेतान्याहू के साथ उनकी पत्नी सारा भी भारत आयी हैं.

नेतान्याहू के भारत दौरे से कुछ विपक्षी दल खुश न हों लेकिन प्रधानमंत्री मोदी बहुत खुश हैं. उन्होंने अंग्रेजी और हिब्रू भाषा में तवीत किया " मेरे मित्र प्रधानमंत्री नेतान्याहू, भारत में आपका स्वागत है. भारत की आपकी यह यात्रा ऐतिहासिक और विशेष है. इससे हमारे देशों के बीच मित्रता और मजबूत होगी.’’

गौरतलब है कि इस यात्रा के दौरान दोनों नेता विभिन्न मुद्दों पर व्यापक बातचीत करेंगे. 15 साल बाद कोई इस्राइली पीएम भारत यात्रा पर आया है. इस्राइल और भारत के बीच कई अहम समझौते होंगे. एयरपोर्ट के बाद पीएम मोदी और उनके समकक्ष नेतनयाहू तीन मूर्ति चौक पहुंचे, जहां उसका बदलकर तीन मूर्ति हाइफा चौक किया गया. दोनों नेताओं ने यहां स्मारक पर पुष्पांजलि दी और आगंतुक पुस्तिका में दस्तखत किए. तीन मूर्ति पर कांस्य की तीन मूर्तियां हैदराबाद, जोधपुर और मैसूर लैंसर का प्रतिनिधित्व करती हैं, जो 15 इंपीरियल र्सिवस कैवलरी ब्रिगेड का हिस्सा थे. ब्रिगेड ने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान 23 सितम्बर, 1918 को हैफा पर हमला किया था और उसमें जीत हासिल की थी.

गौरतलब है कि नेतन्याहू से पहले 2003 में एरियल शेरॉन भारत यात्रा पर आए थे. अपनी भारत यात्रा के दौरान नेतान्याहू दिल्ली, आगरा, गुजरात और मुंबई जाएंगे. नेतन्याहू गुजरात के वडराड में सेंटर फॉर एक्सीलेंस इन एग्रीकल्चर का दौरा करेंगे और मुंबई में उद्योगपतियों के साथ वार्ता करेंगे. वह ताजमहल के शहर आगरा भी जाएंगे. उनकी यात्रा के अधिकांश हिस्से में मोदी उनके साथ होंगे. साथ ही वह राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ भी बैठक करेंगे.

भारत आने से पहले नेतान्याहू ने कहा, ‘‘मैं भारत की ऐतिहासिक यात्रा पर जा रहा हूं. मैं वहां प्रधानमंत्री से मिलूंगा, मेरे मित्र नरेंद्र मोदी से. भारत के राष्ट्रपति और कई अन्य नेताओं के साथ भी मुलाकात करूंगा. हम कई करारों पर दस्तखत करेंगे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम इस्राइल और दुनिया की इस महत्वपूर्ण ताकत के साथ संबंधों को मजबूत करेंगे. यह हमारे सुरक्षा, आर्थिक, व्यापार और पर्यटन क्षेत्रों के हित में है. इसके अलावा कई अन्य क्षेत्रों को भी फायदा होगा. यह इस्राइल के लिए एक बड़ा वरदान होगा.’’

Published in देश