दिल्ली दरवार में मंत्रणा के बाद सीएम जयराम ठाकुर ने किया अपने मंत्रियों को विभागों का आवंटन.....

29 Dec 2017
279 times

आवाज़(रेखा राव, दिल्ली): हिमाचल प्रदेश के सीएम पद की शपथ लेने के बाद आज जयराम ठाकुर ने दिल्ली दरवार में मंत्रणा के बाद मंत्रियों के विभागों का आवंटन कर दिया.  आवंटन में ख़ास बात ये है कि जयराम ठाकुर ने वित्त मंत्रालय के साथ-साथ गृह, प्लानिंग, सामान्य प्रशासन और जिन विभागों का आवंटन नहीं हुआ है, उन्हें अपने पास ही रखा है. ए आपको बताते हैं कि किस मंत्री की कौन सा विभाग मिला.......

महेंद्र सिंह ठाकुर:- जिला मंडी के धर्मपुर से आने वाले और सातवीं बार विधायक चुनकर आए महेंद्र सिंह ठाकुर को सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य सहित होर्टिकल्चरल, सैनिक वेल्फेयर विभाग दिया गया है. महिंदर सिंह ठाकुर जयराम ठाकुर के मंत्रिमंडल का एक ऐसा चेहरा हैं जिन्होंने कई पार्टियों के सिम्बल से चुनाव लड़ा है और आज तक एक भी चुनाव नहीं हारे हैं. सूत्रों का कहना है कि जयराम ठाकुर के भी वो चहेते हैं और हिमाचल प्रदेश में अब महेंदर सिंह ठाकुर का कद और बढ़ा है.

किशन कपूर: किशन कपूर का नाम भी हिमाचल बीजेपी के लिए कोई नया नाम नहीं है. वे धर्मशाला से पांचवी बार विधानसभा पहुंचे हैं. हालांकि इस बार उन्हें पहले टिकेट नहीं दिया गया था लेकिन बाद में पार्टी ने अपना निर्णय बदला और उन्हें अंत समय में टिकेट मिला. वो इससे पहले भी धूमल सर्कार में परिवहन मंत्री का जिम्मा संभाल चुके हैं. लेकिन इस बार जयराम ठाकुर ने उन्हें अपनी कैबिनेट में जगह देते हुए खाद्य आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले का कार्यभार सौंपा है. इनकी मंत्रिमंडल में आने की कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है. सूत्र बताते हैं कि पहले जयराम ठाकुर के मंत्रिमंडल में इनका नाम नहीं था,लेकिन अंत समय में प्रेम कुमार धूमल के प्रयासों से इन्हें मंत्रिमंडल में जगह मिली. हालांकि कपूर को शांता कुमार का भी ख़ास माना जाता रहा है.

सुरेश भारद्वाजः सुरेश भरद्वाज हिमाचल बीजेपी का वो चेहरा हैं जो वरिष्ठ होने के बावजूद पहली बार मंत्रिमंडल में शामिल हुए हैं. वो हिमाचल बीजेपी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. राज्य सभा में भी जा चुके हैं. शिमला शहरी से निर्दलीय विधायक को हरा कर इस बार विधानसभा पहुंचने वाले सुरेश भारद्वाज को जयराम ठाकुर ने शिक्षा, कानून व संसदीय मामले का विभाग दिया है, वे चौथी बार विधानसभा पहुंचे हैं.

अनिल शर्माः सीएम जयराम ठाकुर के गृह जिले मंडी से आने वाले अनिल शर्मा का नाम भी हिमाचल प्रदेश की राजनीति के लिए नया नहीं है. वो कभी कांग्रेसी दिग्गज़ पंडित सुखराम के सुपुत्र हैं. पिछली कांग्रेस सरकार में भी वो मंत्री थे, लेकिन इस बार उन्होंने पाला बदल लिया और बीजेपी में आ गये. उन्हें जयराम ठाकुर ने ऊर्जा विभाग आवंटित किया है. हिमाचल प्रदेश में उर्जा विभाग बहुत मायने रखता है.

सरवीण चौधरीः सरवीन चौधरी जयराम ठाकुर की कैबिनेट की एकमात्र महिला चेहरा हैं, जो काँगड़ा जिले के शाहपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनकर आई हैं. जयराम ठाकुर ने इन्हें शहरी विकास, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग के साथ हाउसिंग का भी कार्यभार सौंपा है. वे शाहपुर से चौथी बार जीत कर विधानसभा पहुंची है.

रामलाल मार्कंडेयः रामलाल मार्कंडेय लाहुल से विधानसभा पहुंचे हैं. वो पहले भी धूमल सरकार में राज्य मंत्री रह चुके हैं, लेकिन इस बार उन्हें सीएम जयराम ठाकुर ने कैबिनेट में जगह दी है. रामलाल को कृषि, जनजातिय विकास, सूचना और टेक्नॉलोजी विभाग दिया गया है. 

विपिन सिंह परमारः जिला काँगड़ा के सुलाह से आने वाले विधायक विपिन सिंह परमार पहली बार मंत्री बने हैं. जैर्रम ठाकुर ने इन्हें स्वास्थ्य विभाग, मेडिकल शिक्षा आयुर्वेद और सांइस एंड टेक्नोलॉजी का जिम्मा सौंपा है. बीजेपी के छात्र संगठन एबीवीपी से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने वाले विपिन सिंह परमार शांता कुमार के काफी करीबी माने जाते हैं.

वीरेंद्र कंवरः कुटलैहड़ के विधायक वीरेंद्र कंवर का नाम हिमाचल प्रदेश बीजेपी के लिए नया नाम नहीं है. वो चौथी बार विधानसभा पहुंचे हैं. इस बार उनका नाम तब सुर्ख़ियों में आया जब वो प्रेम कुमार के हारने के बाद उनके लिए अपनी सीट खाली करने को तैयार हो गये. यानी वो धूमल के खासमखास माने जाते हैं. जयराम ने इन्हें ग्रामीण विकास व पंचायती राज, पशुपालन और मछली पालन विभाग दिया गया है.

विक्रम सिंहः जसवां-परागपुर से चुनकर आये विक्रम सिंह को पहली बार मंत्रिमंडल में जगह मिली है. इन्हें जयराम ठाकुर ने उद्योग लेबर, एंड इम्पलाइमेंट, तकनीकि शिक्षा के साथ साथ व्यवसायिक प्रशिक्षण विभाग भी सौंपा है. 

गोविंद सिंह ठाकुरः मनाली से जीत कर विधानसभा पहुंचे गोविंद सिंह ठाकुर को सीएम जयराम ठाकुर का खासमखास माना जाता है. जब महेश्वर सिंह चुनाव हारे तो इनका मंत्रिमंडल में स्थान पक्का माना जा रहा था, और जैर्रम ठाकुर ने भी इन्हें पहली बार मंरिपद से नवाज़ा. इन्हें वन मंत्रालय के साथ-साथ परिवहन और युवा सेवा खेल विभाग की जिम्मेवारी मिली है. गोविन्द सिंह ठाकुर तीसरी बार जीत हासिल कर विधानसभा पहुंचे हैं.

राजीव सहजलः जिला सोलन के कसौली से चुनकर आने वाले राजीव सहजल तीसरी बार विधानसभा पहुंचे हैं. मृदुभाषी राजीव को पहली बार जयराम ठाकुर ने कैबिनेट में लेकर सोलन को प्रतिनिधित्व देने की कोशिश की है. राजीव सहजल को सामाजिक न्याय, पर्यावरण, कॉरपोरेशन  विभाग दिया गया है.

Rate this item
(0 votes)

Latest from Super User