हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में कई करोड़पति, वहीँ 31 हत्या और अपहरण के आरोपी भी हैं उम्मीदवार Featured

06 Nov 2017
13405 times

आवाज़(रेखा राव,दिल्ली): हिमाचल विधानसभा चुनाव सर पर हैं, मतदान 9 तारीख को होआ है. ऐसे में एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म्स और हिमाचल प्रदेश इलेक्शन वाच ने हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव-2017 में चुनाव लड़ने वाले सभी 338 उम्मीदवारों के शपथ-पत्रों के विश्लेषण पर आधारित जारी रिपोर्ट में एक चौकाने वाली जानकारी दी है. रिपोर्ट में कहा गया है कि हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनावों में उतरे कुल 338 उम्मीदवारों में से 61 उम्मीदवारों (18 प्रतिशत) ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं, जबकि 31 उम्मीदवारों ने (9 प्रतिशत) अपने ऊपर गंभीर आपराधिक मामले चलने की जानकारी दी है. निर्वाचन क्षेत्र दून से कांग्रेस के उम्मीदवार राम कुमार ने अपने ऊपर हत्या (भादंस-302) से संबंधित मामला घोषित किया है, जबकि दो उम्मीदवारों ने हत्या के प्रयास (भादंस-307) से संबंधित मामले घोषित किए हैं.

गौरतलब है कि हिमाचल को एक शांत प्रदेश माना जाता है, जहाँ अपराध बहुत कम है, लेकिन एडीआर और इलेक्शन वॉच की विश्लेषण रपट के अनुसार, कांग्रेस के कुल 68 उम्मीदवारों में से छह (नौ प्रतिशत), भाजपा के 68 उम्मीदवारों में से 23 (34 प्रतिशत), बसपा के 42 उम्मीदवारों में से तीन (सात प्रतिशत), माकपा के 14 उम्मीदवारों में से 10 (71 प्रतिशत) और 112 निर्दलीय उम्मीदवारों में से 16 (14 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले चलने की घोषणा की है. इसी प्रकार कांग्रेस के तीन, भाजपा के नौ, बसपा के दो, माकपा के नौ और कुल छह निर्दलीय उम्मीदवारों ने अपने ऊपर गंभीर अपराधिक मामले घोषित किए हैं, जिसमें हत्या, हत्या का प्रयास और अपहरण जैसे मामले शामिल हैं.

वहीँ रिपोर्ट के मुताबिक, हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव-2017 में दो निर्वाचन क्षेत्र ऐसे हैं, जहां राजनीतिक दलों के तीन अथवा तीन से अधिक उम्मीदवारों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव-2017 में कुल 55 उम्मीदवारों ने पांच करोड़ रुपये अथवा इससे अधिक की संपत्ति घोषित की है, जो इस चुनाव के कुल उम्मीदवारों का 16 प्रतिशत है. दो करोड़ से पांच करोड़ की संपत्ति वाले कुल 16 प्रतिशत उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं, जबकि 10 लाख से कम संपत्ति वाले उम्मीदवारों की संख्या 53 है, जो कुल उम्मीदवारों का 16 प्रतिशत है.

Rate this item
(0 votes)