हरियाणा: किसानों को आंदोलन करने से रोकना, उन्हें गिरफ्तार करना, लाठी बरसाना, सरकार का असली चेहरा, संसद में उठेगी आवाज़: सांसद दुष्यंत चौटाला

27 Feb 2018
594 times

आवाज़(विशाल चौधरी, कैथल): दुष्यंत चौटाला के नेत्रित्व में इनेलो हरियाणा की खट्टर सरकार के खिलाफ काफी आक्रमक हो गयी है. वो कभी गीता की कीमतों को लेकर सरकार को घेर रहे हैं तो कभी किसानों और जाटों से वादाखिलाफी का इलज़ाम लगा रहे हैं. उन्होंने पूरे हरियाणा में जनसंपर्क अभियान छेड़ रखा है. जिसके तहत वो हरियाणा के गांव-गांव जाकर इनेलो को मजबूत करने की कोशिश तो क्र ही रहे हैं साथ ही सरकार पर भी जमकर हमला कर रहे हैं. अपने इसी जनसंपर्क अभियान के तहत इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला कैथल के एक गांव में पहुंचे जहाँ उन्होंने सरकार पर जमकर हमला बोला. बाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए चौटाला न कहा कि किसानों के ऊपर लाठीचार्ज करना, उनके ऊपर 307 के मुकद्दमे दर्ज करना इस सरकार का असली चेहरा हैं. इसपर मुख्यमंत्री को जवाब देना चाहिए. उन्होंने सूबे के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पर हमला करते हुए खा कि मुख्यमंत्री को इस बात का जवाब देना चाहिए कि उनपर ऐसा क्या दबाव था कि उन्हें अपने हक की आवाज़ उठाने दिल्ली जाते हुए वाले मासूम किसानों पर लाठीचार्ज करना पडा. ये सरासर अत्याचार है. इनेलो इस अत्याचार को बर्दास्त नहीं करेगी और किसानों की आवाज़ को विधानसभा के साथ-साथ लोकसभा में भी उठायेंगे.

दुष्यंत ने आगे बोलते हुए कहा की आज हरियाणा का युवा और किसान दोनों ही परेशान हैं, पीड़ित हैं. युवा के पास रोज़गार नहीं है और किसान इस सरकार में अपने आप को छला हुआ महसूस कर रहा है. इनेलो इन सभी मुद्दों को लेकर सरकार को घेरेगी और इनके हितों की रक्षा के लिए लड़ाई लड़ेगी. दुष्यंत ने कहा भाजपा ने अपने घोषणापत्र में कहा था कि हम स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू करेंगे और किसान की आय को दोगुना करेंगे, परंतु किसान को इसके बदले लाठियां मिली. अरुण जेटली बजट से पहले कहा था कि हम किसानों के के लिए बहुत कुछ करेंगे और उन्होंने अपने हर भाषण में किसान.... किसान..... किसान.... कहा, परंतु जब बजट आया तो उसमें किसानों के लिए कुछ भी नहीं था, केवल किसानों को बर्बाद करने के लिए यह  बजट था.
 
दुष्यंत ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि ये सरकार हर मोर्चे पर फेल है. बुजुर्गों की पेंशन पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि आज 80 साल के बुजुर्ग को भी दूसरे गांव में पेंशन लेने के लिए बैंकों की लाइन में लगना पड़ता है. वहीँ करनाल में एक शहीद की विधवा जिसने गैस्ट टीचर की नौकरी के लिए रोष प्रकट करने के लिए अपना सिर का मुंडन करवाया था, पर बोलते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा यह बहुत निंदनीय है और हम इसकी आवाज उठाएंगे . इसके सम्बन्ध में हम डिफेन्स मिनिस्टर से बात करेंगे और ये मांग करेंगे कि इस मामले की जांच करवाई जाए. उन्होंने घटना पर दुःख प्रकट करते हुए कहा कि अगर इस तरह शहीदों की विधवाओं को ऐसे कदम उठाने पड़े, तो लोग सेना में जाना छोड़ देंगे. इनेलो ने हमेशा शहीदों और उनके परिवारों की इज्ज़त की है और उनके हक की लड़ाई लड़ी है.  
 

 

Rate this item
(0 votes)

Latest from Super User