Items filtered by date: Friday, 09 February 2018

आवाज़(मुकेश शर्मा, गुरुग्राम): भारतीय जनता पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह के आगामी दौरे को देखते हुए हरियाणा सरकार ने केंद्रीय सशस्‍त्र पुलिस बल (CAPF) की 150 कंपनियां मांगी हैं. गौरतलब है कि शाह यहां 15 तारीख को आने वाले हैं, जिसकी तैयारियां ज़ोरों-शोरों से चल रही हैं. लेकिन हरियाणा के एक बड़े समुदाय यानी जाटों ने अमित शाह के इस दौरे का विरोध करने का ऐलान कर दिया है. इतना ही नहीं जाटों ने ये धमकी भी दी है कि अगर अमित शाह का हेलीकाप्टर लैंड होगा तो वो उनके खून पर होगा जिसके बाद हरयाणा सरकार में हडकंप मच गया है. अब इसी के मद्देनजर सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए हरियाणा सरकार ने केंद्र से CRPF की 150 टुकडियां उपलब्ध करने की गुज़ारिश की है. इंडियन एक्सप्रेस की मानें तो उन्हें एक वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि सरकार ने CAPF की जो कंपनियां मांगी हैं, वे राज्‍य में 18 फरवरी तह रह सकती हैं. अधिकारी ने कहा, ”देखना है कि गृह मंत्रालय किस स्‍तर तक हमारी बात सुनता है.” हरियाणा की आईजी ममता सिंह ने भी इस बात की पुष्टि की है.

गौरतलब है कि यशपाल मलिक के नेतृत्‍व में अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति (AIJASS) ने घोषणा की है कि वह जींद में शाह के दौरे के दौरान बाइक रैली को रोकेगी. यहाँ प्रदर्शनकारियों ने ट्रैक्‍टर-ट्रॉली में जींद पहुंचने की योजना बनाई है. मामले की गंभीरता को देखते हुए वरिष्‍ठ सरकारी व पुलिस अधिकारियों ने बैठकें कर घटनाक्रम पर चर्चा की. गुरुवार को वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारियों ने अमित शाह की जींद रैली स्‍थल का मुआयना भी किया. AIJASS अध्‍यक्ष यशपाल मलिक ने इससे पहले द इंडियन एक्‍सप्रेस को बताया था कि वे शाह की रैली का विरोध इसलिए करेंगे क्‍योंकि ”उनकी मांगों को लेकर बीजेपी नेताओं ने धोखा किया है. ”

दरअसलAIJASS की ओर से पिछले काफ़ी समय से सरकारी नौकरियों और शैक्षिक संस्‍थानों में आरक्षण की मांग की जा रही है, साथ ही 2016 में विरोध के दौरान भड़की हिंसा में दर्ज मुकदमों को वापस लेने की मांग भी की जा रही थी. हालांकि शुक्रवार को मनोहर लाल खट्टर सरकार ने जाटों के खिलाफ मुकदमे वापस ले लिए. लेकिन जाट इतने से संतुष्ट नजर नहीं आ रहे और बार-बार सरकार के ऊपर वादाखिलाफी का इलज़ाम लगा रहे हैं. जिसके मद्देनजर अब उन्होंने अमित शाह के हरियाणा दौरे का विरोध करने का फैसला लिया है.

Published in हरियाणा

आवाज़(मुकेश शर्मा, दिल्ली): बीते कुछ सालों में उत्तर प्रदेश की पहचान केवल अपराध और लूटपाट के रूप में ही की जाती थी. अपनी प्राचीन विरासत और पारम्परिक धरोहर समेटे ये सूबा केवल अपराध के कारण सुर्ख़ियों में रहा, लेकिन अब यूपी के निज़ाम बदले हैं, सरकार बदली है और सिप्पेसालार बदले हैं तो इसका असर भी दिखना शुरू हो गया है. उत्तर प्रदेश में जैसे ही योगी आदित्यनाथ ने कमान संभाली तो उन्होंने उत्तर प्रदेश को अपराधमुक्त बनाना अपनी पहली प्राथमिकता बताया. पुलिस को स्वतंत्रता दी गयी और अब अपराध पर लगाम लग्न शुरू हो गयी है. जगह-जगह इनामी बदमाशों के एनकाउंटर हो रहे हैं. इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश में अपराधियों के मन में एनकाउंटर का डर इस कदर बैठ गया है कि अब वे खुद पुलिस के आगे सरेंडर कर रहे हैं. ऐसा ही कुछ देखने को मिला हापुड़ के बाबूगढ़ थाने में, जहां सेंट्रो कार लूटने और एक शख्स को गोली मारने के 15 हजार रुपये के ईनामी आरोपी ने एनकाउंटर के डर से बाबूगढ़ थाने में सरेंडर कर दिया. ईटीवी भारत यूपी नाम के फेसबुक पेज पर आरोपी और पुलिस का एक वीडियो शेयर किया गया है, जिसमें आरोपी अपना गुनाह कबूलते हुए पुलिस के भय की बात बता रहा है. आरोपी बताता है कि उसका नाम अंकित कुमार है. आरोपी वीडियो में  कहता हुए दिख रहा है कि काफी समय से पुलिस उसके घर पर दबिश दे रही थी, एनकाउंटरों को देखते हुए रिश्तेदारों ने सरेंडर करने की सलाह दी. आरोपी कहता है कि पुलिस के भय से सरेंडर कर दिया. आरोपी यह भी बताता है कि 15 हजार रुपये का ईनाम उसके सिर रखा गया है.

 

वीडियो में आरोपी अपना गुनाह कबूलते हुए बताता है कि उसने सेंट्रो गाड़ी से लूट की थी और कार वाले को गोली मारी थी. पुलिस ने बताया कि 22 तारीख को बाबूगढ़ क्षेत्र में सेंट्रो गाड़ी से लूट हुई थी, जिसमें एक अभियुक्त को जेल भेजा गया था, दूसरे अभियुक्त के ऊपर 15 हजार रुपये का ईनाम रखा गया था. दूसरा अभियुक्त फरार चल रहा था. पुलिस उसकी खोज में थी. लेकिन उसने गुरुवार (8 फरवरी) को पुलिस के डर से अपने असलहे के साथ सरेंडर कर दिया. आगे की कार्रवाई की जा रही है.

पुलिस ने बताया कि आरोपी बता रहा है सीआईएसएफ में नौकरी करता है. यूपी में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद से बदमाशों के एनकाउंटरों की तादात में खासा इजाफा हुआ है. आंकड़ों के मुताबिक पिछले 10 महीनों में पुलिस ने 942 एनकाउंटरों में 35 अपराधियों को मार गिराया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी कई दफा अपने भाषणों में कह चुके हैं कि वह राज्य को अपराध मुक्त बनाएंगे. सीएम योगी कई समारोहों पर कह चुके हैं कि बदमाश या तो आपराध का रास्ता छोड़ दें या उत्तर प्रदेश छोड़कर चले जाएं.(इनपुट:जनसत्ता डॉट कॉम)

 

Published in यूपी