राफेल सौदा: राहुल का फिर मोदी पर वार: मोदी ने किया भ्रष्टाचार, अंबानी की कंपनी ने दसॉ के पैसे से खरीदी जमीन....... Featured

02 Nov 2018
105 times

आवाज़(मुकेश शर्मा, दिल्ली): कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी रफ़ाल सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लगातार भ्रष्टाचार के आरोप लगा रहे हैं..... वो कह रहे हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चौकीदार नहीं बल्कि भर्ष्टाचार में अनिल अम्बानी के साथ भागीदार हैं..... इसी मुद्दे को लेकर आज शुक्रवार सुबह राहुल गाँधी ने प्रेस कांफ्रेंस की..... जिसमे उन्होंने ये आरोप लगाया कि आखिरकार अनिल अंबानी की कंपनी को ही इसका ठेका क्यों दिया गया. जब अनिल अंबानी की कंपनी घाटे में चल रही थी तो उसे दसॉ ने 284 करोड़ रुपये क्यों दिए. उन्होंने इस पैसे को साफ़ तौर पर किक-बैक करार दिया और इसे अनिल अंबानी को दसां की तरफ से दी गई पहली क़िस्त करार दिया है.....

राहुल गांधी ने प्रेस कांफ्रेंस करके आरोप लगाया कि अनिल अंबानी की कंपनी के पास तो जमीन भी नहीं थी, जो पैसा दसॉ ने दिया उसी पैसे से उन्होंने जमीन खरीदी. अंबानी की कंपनी को जानबूझकर फायदा पहुंचाया गया. साथ ही राहुल गांधी ने कहा कि राफेल डील की वजह से ही सीबीआई के चीफ को हटाया गया. क्योंकि नरेंद्र मोदी और अनिल अंबानी के बीच में पार्टनरशिप थी, हमारा काम पूरे देश को सच बताना है. राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि इस पूरी डील में सिर्फ दो ही व्यक्तियों को फायदा पहुंचाया है, वो दो व्यक्ति हैं नरेंद्र मोदी और अनिल अंबानी. कांग्रेस अध्यक्ष बोले कि पहले दसॉ ने कहा था कि क्योंकि अनिल अंबानी की कंपनी के पास जमीन थी, इसलिए उनके साथ सौदा किया गया. लेकिन अब सच सामने आया है कि जमीन तो दसॉ के पैसे से खरीदी गई थी, यानी जमीन तो दसॉ ने खरीदी थी. ये लोग जनता के पैैसे से राफेल विमान खरीद रहे हैं, लेकिन जनता को ही दाम नहीं बता रहे हैं. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि नुकसान में चल रही 8 लाख रुपये की कंपनी में 284 करोड़ रुपये दसॉ ने क्यों डाले?

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि राफेल पर जो भी फैसला हुआ है वो तो सिर्फ 'बॉस' ने ही किया है. भ्रष्टाचार की पूरी किश्त अनिल अंबानी के खाते में गई है. जो राफेल में किया गया है, वह पूरी तरह से गलत है. उन्होंने कहा कि अब तो सुप्रीम कोर्ट ने भी राफेल डील के दाम की जानकारी मांगी है, लेकिन सरकार ने कहा है कि वह ये जानकारी नहीं दे सकते हैं. फ्रांस के राष्ट्रपति ने मुझे बताया कि सीक्रेट प्रैक्ट में दाम छुपाने की बात है ही नहीं और ये हो ही नहीं सकता है. उन्होंने कहा कि फ्रांस को भी पता है कि इस डील में भ्रष्टाचार हुआ है. राहुल गांधी ने कहा कि इस डील में मनोहर पर्रिकर की कोई गलती नहीं है, उन्होंने कहा कि पर्रिकर ने भी देश को बताया दिया कि फैसला मेरा नहीं बॉस का है. कोई भी डिफेंस डील करने से पहले कैबिनेट डील की जरूरत होती है, लेकिन ये बैठक डील होने के बाद हुई है.

Rate this item
(0 votes)