ममता की रैली में शरद यादव की फिसली जुबान तो मोदी ने ली चुटकी, बोले- आखिर सच्चाई कब तक छुपती..... Featured

20 Jan 2019
180 times

आवाज़(मुकेश शर्मा, दिल्ली): ममता बनर्जी ने जब कोलकाता में विपक्ष की रैल्ली की तो ये सवाल उठा कि क्या अब ममता महागठबंधन की सर्वसम्मत नेता हो गई हैं... कम से कम उन्होंने इतना तो दर्शा दिया कि उनके नाम कके नीचे करीब 20 दलों के नेता इक्कट्ठे हो सकते हैं..... लेकिन रैली में शरद यादव की जुबान ऐसी फिसली कि वो चर्चचा का विषय बन गई.... अब इस मुद्दे पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी चुटकी ली है.....  मोदी ने कहा कि आखिर सच्चाई कब तक छुपती, कभी न कभी तो सच बाहर आ ही जाता है...... दरअसल, ममता की रैली में जनता को संबोधित करने आए शरद यादव बीजेपी को घेरने की कोशिश कर रहे थे, तभी उनकी जुबान फिसल गई और वह राफेल घोटाले की जगह बोफोर्स घोटाले पर ही बोलने लगे. हालांकि, तुरंत बाद उन्होंने इस सफाई दी और कहा कि माफ कीजिए मैं राफेल की बात कर रहा था. मोदी ने तंज कसते हुए कहा कहा कि 'जिस मंच से ये लोग देश और लोकतंत्र को बचाने की बात कह रहे थे, उसी मंच पर एक नेता ने बोफोर्स घोटाले की याद दिला दी. आखिर सच्चाई कब तक छुपती है. कभी न कभी तो सच बाहर आ ही जाता है, जो कल कोलकाता में हुआ.' हालांकि, पीएम मोदी ने सीधे तौर पर शरद यादव का नाम नहीं लिया. बता दें कि पीएम मोदी 'मोदी ऐप्प' के जरिये महाराष्ट्र और गोवा के बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे. 

 

ईवीएम को अभी से ही विलेन बनाया जा रहा: पीएम मोदी


पीएम मोदी ने इस दौरान कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा. पीएम मोदी ने कहा कि '2019 में हार के लिए वे अभी से ही बहाने बनाने शुरू कर दिए हैं. ईवीएम को विलेन बनाया जा रहा है. यह स्वाभाविक है क्योंकि सभी राजनीतिक पार्टियां चुनाव जीतना चाहती है, मगर यह चिंताजनक है जब कुछ पार्टियां जनता को फॉर ग्रांटेड ले लेते हैं. वे जनता को मूर्ख समझते हैं और अपना रंग बदलते रहते हैं.'

उनके पास धनशक्ति, हमारे पास जनशक्ति: पीएम मोदी


आगे उन्होंने कहा कि 'एक दूसरे के साथ उन्होंने गठबंधन किया है. हमने देश की 125 करोड़ जनता के साथ गठबंधन किया है. आपको क्या लगता है कौन सा गठबंधन मजबूत है? कोलकाता रैली के मंच पर जितने भी नेता थे, उनमें से अधिकतर प्रभावशाली लोगों के थे या फिर वे अपने बच्चों को राजनीति में सेट करने की कोशिश कर रहे हैं. उनके पास धनशक्ति है, हमारे पास जनशक्ति है.'

 

Rate this item
(0 votes)

Latest from Super User

Error : Please select some lists in your AcyMailing module configuration for the field "Automatically subscribe to" and make sure the selected lists are enabled

Photo Gallery