राहुल गाँधी की अध्यक्ष पद पर ताजपोशी से पहले कांग्रेस में बगावत, युवा कांग्रेस नेता शहजाद पूनावाला ने पूछा: क्या कांग्रेस में अध्यक्ष पद गाँधी नाम वालों के लिए आरक्षित है? Featured

30 Nov 2017
3379 times

आवाज़(मुकेश शर्मा, दिल्ली): एक तरफ जहाँ राहुल गाँधी तो कांग्रेस के युवराज से महाराज यानी उपाध्यक्ष से अध्यक्ष बनाने की तैयारी पूरे जोर-शोर से चल रही है वहीँ दूसरी तरफ पार्टी के अंदर ही विरोध के सुर मुखर होने लगे हैं. आवाज़ न्यूज़ नेटवर्क ने आपको पहले ही बताया था कि पार्टी में एक धड़ा ऐसा है जो ये नहीं चाहता कि अभी राहुल गाँधी को अध्यक्ष बनाया जाए. ऐसे में शहजाद पूनावाला का सामने आना और ये कहना कि वो भी पार्टी के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ना चाहते हैं, वाकई राहुल गाँधी के कई समर्थकों के लिए एक धक्का है.

गौरतलब है कि शहजाद पूनावाला कांग्रेस पार्टी में कोई नया नाम नहीं है. वो कांग्रेस की महाराष्ट्र इकाई के सचिव हैं और साथ ही पार्टी प्रवक्ता भी हैं. उन्हें टी.वी . चैनलों पर अक्सर कांग्रेस पार्टी का पक्ष रखते देखा गया है. इसके अलावा एक और पहलू है जिसे आप शायद नहीं जानते होंगे तो आइये हम आपको बता देते हैं. वो ये है कि शहजाद पूनावाला के गाँधी परिवार के साथ पारिवारिक रिश्ते भी हैं. दरअसल शहजाद पूनावाला के भाई तहसीन पूनावाला के साथ रोबर्ट वाड्रा की बहन मोनिका की शादी हुई है. ऐसे में शहजाद पूनावाला ने राहुल गाँधी के अध्यक्ष बनने की प्रक्रिया पर ही सवाल उठाकर 10 जनपथ से लेकर 12 तुगलक लेन के साथ-साथ पूरे देश में भी हंगामा मचा दिया है.

दरअसल महाराष्ट्र कांग्रेस के सचिव शहजाद पूनावाला ने कहा कि अध्यक्ष पद के चुनाव में राहुल गांधी को फायदा पहुंचाने के लिए हेराफेरी की जा रही है. पूनावाला ने कहा कि अध्यक्ष पद के चुनाव में जो सदस्य वोट डालेंगे उनके नाम फिक्स हैं, इसमें धांधली की गई है. शहजाद पूनावाला के मुताबिक, ‘ अध्यक्ष पद के लिए वोट करने वालों की नियुक्ति सिर्फ उनकी राजभक्ति की वजह से हुई है.’  वहीँ इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक शहजाद पूनावाला ने उनसे कहा है कि वह कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ना चाहते हैं, लेकिन वह ऐसा नहीं कर सकते हैं, क्योंकि अध्यक्ष पद के लिए वोट करने वाले प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रतिनिधि, राज्यों के कांग्रेस अध्यक्षों द्वारा नियुक्ति किये जाते हैं. पूनावाला ने बताया कि इन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्षों की नियुक्ति राहुल गांधी की मां सोनिया गांधी करती हैं. शहजाद पूनावाला ने राहुल गांधी को चुनौती दी है और कहा है कि उन्हें पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष के पद से इस्तीफा देना चाहिए इसके बाद अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ना चाहिए. ताकि वो अपने उपाध्यक्ष पद का कोई अनुचित लाभ न ले सकें.

साथ ही शहजाद पूनावाला ने राहुल गांधी को एक पत्र लिखकर पूछा है कि, ‘क्या कांग्रेस में अध्यक्ष पद प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से सिर्फ ‘गांधी’ नाम वालों के लिए ही रिजर्व है?’ इसके लिए पूनावाला ने कांग्रेस के एक प्रवक्ता के उस बयान का हवाला दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि अगले 50 साल तक ‘गांधी’ ही कांग्रेस के अध्यक्ष रहेंगे. शहजाद पूनावाला ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव को पूरी तरह से मजाक बताया. राहुल पर बरसते हुए उन्होंने कहा, ‘मेरे जैसा एक कार्यकर्ता राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ने की सोच भी सकता था यदि उन्होंने उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया हुआ होता और एक सामान्य कांग्रेस कार्यकर्ता की तरह पार्टी अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ते.’ वहीँ समाचार एजेंसी एएनआई की मानें तो उनसे शहजाद पूनावाला ने कहा कि सच बोलने के लिए हिम्मत चाहिए,  और मुझे पता है कि इस सबके बाद मेरे खिलाफ कई हमले होंगे, लेकिन मेरे पास सबूत हैं.’

दरअसल कांग्रेस के इस नए घटनाक्रम से कई राजनीतिक पंडित आश्चर्यचकित हैं. ऐसे में जब राहुल गाँधी का निर्विरोध अध्यक्ष चुना जाना लगभग तय माना जा रहा था तब शहजाद पूनावाला का सामने आना और गाँधी परिवार पर इस तरह के आरोप लगाना वाकई कांग्रेस के लोइए चिंताजनक है.

Rate this item
(0 votes)

Latest from Super User